Books for CIVIL SERVICES EXAM

About Us

About Lochan Publications

सतीश शुक्ल 1955 में मथुरा में जन्मे, तत्पश्चात गृह-जनपद झाँसी तथा कानपुर, बनारस में पले-बढ़े l कानपुर यूनिवर्सिटी से विज्ञान में स्नातक और परास्नातक डिग्री तथा बी.एच.यू. वाराणसी  से प्लान्ट पैथोलॉजी में शोध-कार्य का अनुभव प्राप्त किया...,विधार्थी जीवन में हाई-स्कूल मेरिट स्कालरशिप तथा जूनियर रिसर्च फ़ेलोशिप के अतिरिक्त एन.सी.सी. ' बी ' सर्टिफिकेट का भी अर्जन किया l

      पहली कमाई बतौर ऑटोरिक्शा-चालक की...तत्पश्चात 'उ.प्र. उच्च वन सेवा' में 3 वर्ष तक  ए.सी.एफ. के पद पर सेवा के बाद 'उ.प्र. राज्य पुलिस-सेवा' में योगदान किया l वर्ष2000 में भारतीय पुलिस सेवा में प्रोन्नत हुए तथा वर्ष 2009 में माननीय राष्ट्रपति जी के 'सराहनीय-सेवा मेडल ' से सम्मानित हुए l वर्ष 2010 में 'राष्ट्रीय पुलिस अकादमी ,हैदराबाद' एवं 'चार्ल्स स्टर्ट यूनिवर्सिटी ,ऑस्ट्रेलिया के तत्वाधान में आयोजित एम.सी.टी.पी.(फेज़-3 पूर्ण करने के उपरान्त,वर्ष 2015 में डी.आई.जी. (क्राइम) / उत्तराखण्ड के पद से सेवानिवृत्त हुए l

      सम्प्रति , उत्तराखण्ड संस्कृत अकादमी, हरिद्वार की  'उच्च-स्तरीय सलाहकार परिषद् ' में नामित सदस्य हैं तथा वर्ष 2017  से ' ज़िला पुलिस शिकायत प्राधिकरण, देहरादून' में बतौर सदस्य नियुक्त हैं l

       जीवन का वैविध्य  लेखन की सरल-भाषा और चुटीले-अन्दाज़ में झलकता है l

      - अब-तक 2 कहानी-संग्रह एवं 2 उपन्यास प्रकाशित

      - हास्य-नाटिकाओं का लेखन एवं मंचन  

      - उत्तराखंड पुलिस-विभाग हेतु 'सामुदायिक-पुलिसिंग ' पर आधारित लघु-फिल्म 'दहेज़' की पटकथा का लेखन एवं निर्माण ...,

      -आकाशवाणी केंद्र ,देहरादून से दो लघु कहानियों 'और लड़की जीत गई' तथा 'डॉक्टर-साब' का प्रसारण

-आकाशवाणी केंद्र ,गोरखपुर से 'बाल-सखा' कार्यक्रम में भागीदारी ,राज्य-समारोहों का संचालन

-प्रकाशित-साहित्य की समीक्षा 'नागरी पत्रिका ' वाराणसी, में भी प्रकाशित हुई l

     लेखन अभी जारी है...l

Subscribe to our Newsletter